July 27, 2021
Construction Safety Hazards and Precaution Safety Awareness Uncategorized

Personal Protective Equipment (PPE) II स्वयं सुरक्षा उपकरण

Personal Protective Equipment (PPE) in Hindi-

Personal Protective Equipment (PPE) जिसे हिन्दी में स्वयं सुरक्षा उपकरण कहते हैं. यह एक प्रकार का equipment होता है,जो work place पर होने वाले खतरे से employee को protect करता है.

Personal Protective Equipment मुख्यतः कार्य स्थल पर होने वाले hazards पर निर्भर करता करता है.हर एक work के लिए अलग-अलग PPE  होतें हैं और यह management या health safety environment के द्वारा उपलब्ध कराया जाता है.

यह दो प्रकार के होते हैं-

1.Non Respiratory

2.Respiratory

यहाँ हम non respiratory PPE’S के बारे में जानने वाले हैं-

About  Non Respiratory PPE’S

 

1.Safety Helmet-

Hard Hat

इसका प्रयोग सिर के safety के लिए किया जाता है.जहाँ Head injury, fall protection, flying object आदि की संभावनाएं रहती हैं वहां Hard hat (Safety Helmet ) का प्रयोग करते हैं.

Types of Safety Helmet-

ये मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं

a.Hard Hat-

इसका प्रयोग General purpose में करते हैं.यह mandatory PPE में आता है और प्रत्येक employee को work site पर लगाना अनिवार्य होता है. चाहे वह किसी भी post पर कार्यारत क्यों न हो.

b.Bump Cap

इसका use वहाँ करते हैं जहाँ बहुत limited space होता है और workers को काम करने में समस्या होती है.ऐसे स्थानो पर कार्य करने जाने से पहले उसका स्थान का observation कर Bump cap workers को दिया जाता है.

Made By-

Aluminum, Fiber glass, PVC, Plastics etc.

2.Hand Protection

Hand Protection

इसका प्रयोग हाथ के safety के लिए किया जाता है.Work site पर जहाँ भी fire, chemical, sharp object और electrical work आदि से हाथ को चोट पहुँचने का खतरा रहता है वहाँ पर gloves का प्रयोग करते हैं.इसे बिना पहने किसी भी workers को कार्य करने की अनुमति नहीं होती है.

अगर कोई worker काम का दौरान gloves का प्रयोग नहीं करता है तो उसे समझाने की कोशिश करे फिर भी न मानने के पश्चात उसे दंडित करें.

Types of hand Protection-

Rubber Hand Gloves, Cotton Hand Gloves, Leather Hand Gloves और Metal reinforcement hand gloves

Made By-

Cotton, Rubber, Leather, PVC और Asbestos

3.Eye and Face Protection-

इसका प्रयोग वहाँ करते हैं जहाँ आँख और चेहरे को नुक्सान पहुँचने का पूरा ख़तरा रहता है.

Types of Eye and Face Protection-

यह मुख्यतः दो तरह के होते हैं

a.Mono Goggle-

Mono Goggle

इसका प्रयोग वहाँ किया जाता है जहाँ हवा में dust particles, fumes, normal chemical handling, radiation etc में होता है जो आँख को पूरी तरह सुरक्षा प्रदान करता है.इसलिए ऐसे स्थानो पर जहाँ आँख के खतरे की संभावना हो उसे भाँपते हुये workers को Mono Googles उपलब्ध कराएं.

b.Full Face Shield-

Full Face Shield

इसे खासकर welding, gas cutting, grinding या high pressure water में इसका प्रयोग करते हैं.यह चेहरे के साथ-साथ आँख को सुरक्षा प्रदान करता है.

4.Foot and Leg Protection-

यह mandatory PPE में आता हैं. इसका प्रयोग company के अंदर अनिवार्य होता है.यह falling materials, rolling object, slipping और tripping hazards से  बचने के लिए किया जाता है.Company के अंदर सभी employee को इसे पहनना ज़रूरी होता है.

Types of Foot Protection- 

a.Safety Shoes-

Safety Boot

Safety Boot को company के अंदर हर जगह प्रयोग करना अनिवार्य होता है. बिना इसके site visit या company के अंदर work करने की अनुमति नहीं होती है.यह slipping,tripping या electrical shock जैसे अन्य खतरों से employee को बचाता है.

b.Gum Boot-

Upper Shoes

इसका प्रयोग rainy season,sewer या जंगल झाड़ियों में काम करते वक्त किया जाता है.इसे upper shoes के नाम से जाना जाता  है. जहाँ पैर को कीचड़ से infection या जहरीले जन्तु जैसे की साँप के काटने या बिच्छू के डंक मारने या जहरीले पौधों से पैरों को खरोच आने की संभावना हो वहाँ इसका प्रयोग करते हैं.

Made By-

Metal, Leather, Rubber and SS Plate

Body Protection-

Apron

इसका प्रयोग पूरे शरीर की safety के लिए किया जाता हैं. ऐसा कार्य जहाँ पूरे शरीर के injuries यानी जलने की सम्भावना होती है वहां करते हैं.इसका प्रयोग खासकर hot work जैसे-welding, gas cutting या grinding में करते हैं.

Types of Body Protection-

Apron, Hood, Cover All, Jacket etc.

Made By-

Rubber, Leather Canvas, PVC Asbestos etc.

Ear Protection-

Ear Protection वहाँ पर करते हैं जहाँ noise ज्यादा होता  है. इसका प्रयोग इसलिए करते हैं कि कान पर किसी प्रकार का प्रभाव न पड़े और व्यक्ति hearing loss और Psychological stress से बच सके. इसका प्रयोग कार्य स्थल पर sound के ऊपर निर्भर करता है.

यह दो प्रकार का होता है.

a.Ear Plug-

Ear Plug

इसका प्रयोग वहाँ करते हैं जहाँ 80db से 90db के बीच sound environment में होता है.इसे देने से पहले कार्य स्थल पर sound को sound level meter से measure करते हैं और जब sound criteria को cross कर जाता है ऐसे में वहाँ पर ear plug उपलब्ध करना अनिवार्य हो जाता है.

b.Ear Muff-

Ear Muff

इसका प्रयोग वहाँ करते हैं जहाँ 90db से ज्यादा sound निकलता है और उसी procedure को follow करते हाइन जो ear plug में बताया गया है.

Full Name-

PPE Full Form-Personal Protective Equipment 

PPE Full Form in Hindi-स्वयं सुरक्षा उपकरण 

 

इसे भी जाने-

Types of Hazards in Hindi | संभावित खतरों के प्रकार

Hierarchy of Hazard and Risk Control

H2S Gas के Properties, Effects,Hazards और Precautions.

Work at Height Definition,Hazards,Control Measure at Construction Site in Hindi

Tool Box Talk II TBT

Related posts

LEL and UEL Full Name and Definition in Hindi

Wajid Ali

Responsibilities Safety Officer during the Work at Height

Wajid Ali

Accident Prevention 14 Points in Hindi

Wajid Ali

Leave a Comment