Safety engineering या safety officer क्यों बनें ?

सेफ्टी इंजीनियरिंग कोर्सेज  (Safety Engineering Courses )-

Safety Engineering एक ऐसा कोर्स हैं जिसे कोई भी Student 10 +2 के बाद आसानी से  करके  किसी भी company में सुरक्षा सलाहकार के रूप में नियुक्ति हो सकते हैं. यह कोर्स बहुत कम समय में आप के ख्वाब को एक ऊँची उड़ान दे सकते हैं. Safety Engineering के क्षेत्र में बहुत सारे कोर्सेज हैं,One Year Diploma से लेकर 3 year Diploma तक और सभी courses एक से बढ़कर एक हैं.

जहां आप आसानी से अपनी रूचि और financial support के अनुसार कोर्स को चुन सकते हैं और सफलता के ऊँचाई को छू सकते हैं.भारत से लेकर विदेशों में जिस Courses की सबसे ज्यादा डिमांड है उसमे से कुछ courses निम्नलिखित है जिसे करने के बाद कोई भी Student आसानी से पुरे विश्व में आसानी से Safety Engineering Field मे मनचाही नौकरी पर काम कर सकता है.

1.One Year Diploma in Industrial Safety.

2.One Year Diploma in Fire and Industrial Safety Management.

3.One Year Diploma in Fire and Safety Management.

4.HSE (Heath Safety Environment)

5.Advance Diploma in Industrial Safety Management

6.IOSH

7.NEBOSH (HSW/IGC)

Safety Engineering क्यों करना चाहिए –

इस कोर्स को करने के दो महत्वपूर्ण कारण हो सकते हैं. पहला की इस कोर्स की समय अवधि बहुत कम होती हैं, और course complete के बाद आप को आसानी से किसी भी कंपनी में अच्छी सैलरी पर सुरक्षा सलाहकार के रूप में रख लिया जाता है, और दूसरी बात इस कोर्स करने की लागत बहुत कम हैऔर लगभग 50से 60 हजार रुपए एक साल मे खर्च कर आप आसानी से यह कोर्स किसी अच्छे सस्थान से कर सकते हैं.

कोर्स करने के लिए Skill-

इस कोर्स को करने के लिए बहुत ज्यादा स्किल की ज़रूरत नहीं होती है लेकिन जो सबसे महत्वपूर्ण स्किल है जो इस Field में आप को बहुत जल्दी ऊँचाई में ले जा सकता है।

Risk Assessment in Hindi I Risk Assessment कैसे बनाते हैं?

Online Free Safety Courses in Hindi

 

1.Students का अंतर्मुखी होना-(Student introvert).

विद्यार्थी के पास कॉमन सेन्स के साथ- साथ safety के फील्ड में अच्छी जानकारी होना चाहिए।मेरे कहने के तात्पर्य यह है की किताबी जानकारी इस क्षेत्र में  बहुत मायने रखता हैं. इस लिए विधयर्थियों को regular classes पर basically जोर देना चाहिए. अन्यथा कोई भी जॉब आप के लिए एक challenging task बन जाएगा और आप के लिए लम्बे समय तक किसी भी साइट पर टिकना मुश्किल हो जाएगा, और frustrate हो कर कभी भी आप जॉब छोड़ देगें.कुछ विद्यार्थियों के साथ यह समस्या होती है और जल्दी ही जॉब से ऊब कर इसे लेफ्ट देते हैं और यह बातें बस सेफ्टी इंजीनियरिंग के फील्ड के लिए ही नहीं बल्कि सभी क्षेत्रों में लागू होता है.

 

2.Students का बहुमुखी होना –( Student Extrovert)

Safety Engineering का फील्ड ऐसा हैं जहाँ आप को किताबी जानकारी के साथ लोगों से Communicate करने की क्षमता होनी चाहिए. क्योंकि इस क्षेत्र के विद्यार्थियों का काम construction field  या किसी कंपनी में work  कर रहे employee के साथ safety  से related चर्चा करना होता है. अगर ऐसे में आप को पब्लिक में बोलने से डर लगता है तो आप को जितना जल्दी हो सके इसे दूर करें, अन्यथा आप को site पर problem  create  हो सकती है. इसलिए आप को class  में TBT (Tool  Box Talk ) पर basically focus करना चाहिए जिसे आप अपने इस कमी को जितना जल्दी हो सके दूर करना चाहिए।

3.Study के लिए Institution का चुनाव-

किसी भी संस्था में पढ़ने के लिए सबसे पहले उस Institution के बारे में भली भाँति जान लें, कि क्या सस्थाएं जिस facilities के बारे में अपने website या advertise के माध्यम से अपने पोस्टर या banner पर जिस Facilities के बारे में लिख रही हैं वह उपलब्ध कराती हैं या नहीं।सबसे अच्छा तरिका है की आप वहाँ Demo  क्लास कर Institution  का आकलन कर सकते हैं तो अच्छा यही होगा, कि admission लेने से पहले सस्था से भली-भांति परिचित हो जाएँ, और अगर आप के आस पास कोई विद्यार्थी पढ़ा है तो उससे Feed  Back लेना न भूलें अन्यथा Admission लेने के बाद हो सके तो आप को पछताने पड़े.

4.Easily Placement-

यही एक ऐसा छेत्र है जहाँ courseकरने के बाद आप को ज्यादा भटकने कि ज़रुरत नहीं पड़ती है और आप को आसानी से संस्था के द्वारा नौकरी उपलब्ध करा दिया जाता है. और आप अपने को बहुत ही कम समय में बुलन्दियों पर देखने लगते हैं.

वर्तमान समय में या कह सकते हैं कि आने वाले समय में इस course का इतना demand होगा कि उतने safety के skilled person मिलने मुश्किल हो जायेंगे. आज भी देखा जाये तो इस छेत्र में skilled person की  कमी है और सभी कम्पनि ढूँढने के लिये आतुर हैं.

Conclusion-

अगर आप सही में Safety Engineering के field में अपना career बनाना चाहते है तो सबसे पहले Safety Engineering  के बारे में जाने, और अपनी रूचि को परखें.Safety engineering के क्षेत्र में काम करने वालों की जॉब प्रोफाइल जाने फिर सब कुछ  जानने के बाद खुद आत्मनिरीक्षण करें. अगर सब कुछ आप के personality को सूट करता है फिर इस फील्ड में करियर बनाने के लिए आगे आये और मुझे उम्मीद हैं की सब कुछ जानने के बाद आप इस फील्ड career  बनाने के लिए तत्पर दिखेंगें क्योकि इससे कम समय में और कम  पैसे में कोई ऐसा course  नहीं जो नयी उचाईयों पर ले जा सके.

 

                        “आइये हम साथ मिल कर आप के जिज्ञासा को शांत करे और आप के सपनों को एक नयी उड़ान दें.”

Read this-

Welding types and Definition

Work at Height Definition,Hazards,Control Measure in Hindi

Fall Protection

Types of Hazards in Hindi | संभावित खतरों के प्रकार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *