Conduct Rescue Drill before Work in Confined Space

Introduction of Emergency in Confined Space Entry-

Conduct Rescue Operation in Confined Space by Trained Person

जब भी confined space में कार्य होता है तो risk का level अधिक होता है, इसलिए ऐसे स्थान पर कार्य करने से पहले सबसे महत्वपूर्ण बात यह होती है, ऐसे स्थान पर कार्य के दौरान emergency के लिए हमेशा तैयार रहने की अवश्यकता होती है.

Confined space के अन्दर आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिए आप के पास personal protective equipment के साथ rescue equipment का होना आवश्यक होता है, तभी कहीं जाकर सीमित स्थान के अन्दर rescue करना थोडा बहुत आसान हो सकता है.

सीमित स्थान के अन्दर कोई घटना होती है और rescuer अंदर बचाव के लिए जाता है तो उसके बचाने के लिए किस तरह के संसाधन की अवश्यकता होगी यह वहाँ उपलब्ध होना चाहिए. Confined space के अन्दर बचाव का काम आसानी से वही व्यक्ति कर सकते हैं जिन्हें confined space में कार्य करने का अनुभव हो और इसके लिए पहले से तैयारी करने की अवश्यकता होती है.

यहाँ confined space के अन्दर हुई दुर्घटना से बचाव के लिए किस तरह के तैयारी की अवश्यकता होती है, उन बिन्दुओं के बारे में प्रमुखता से बताएगें. आप को लगता है कि इसके अलावा किसी और तरह के emergency point  की अवश्यकता है तो उसे भी जोड़ें और उसका भी अनुसरण करें.

1. Conduct Rescue Drill –

जिन भी व्यक्तियों को confined space के अन्दर emergency के दौरान rescue करने के लिए जाना होता है तो सबसे पहले उन्हें अन्दर जाने के training की अवश्यकता होती है. Rescuer Drill उन्ही व्यक्तियों को दिया जायेगा जिनके पास confined space के अन्दर काम करने का अनुभव हो.

जिन व्यक्तियों को सीमित स्थान पर प्रवेश की training दी जा रही है तो उसके साथ CPR के साथ-साथ first-aid से सम्बंधित training देना अनिवार्य होता है. इसके साथ ही entrant को बचाव योजना के साथ उस आपातकालीन स्थिति से कैसे बाहर निकलेगें इसके बारे में जानकारी दिया जाना होता है.

यह rescue drill का किसी एक दिन के अभ्यास देने कभी भी confined space emergency की स्थिति में उस पर ठीक से काबू नहीं पाया जा सकता बल्कि इसके लिए निरंतर अभ्यास की अवश्यकता होती है. जो भी entrant अंदर कार्य के लिए जा रहा है उस सिमित स्थान के associated hazards के बारे में उसके पास जानकारी होनी चाहिए.

Confined space कई तरह के होते हैं, इसलिए अलग-अलग तरह के confined space में rescue drill का अभ्यास किया जाना  चाहिए कि जहाँ कहीं भी किसी तह का emergency हो वहाँ सफाई के साथ rescuer को perform किया जा सके.

2. Understand Confined Space Emergency –

आप को यह जानना आवश्यक होता है कि confined space में किसी भी घटना को emergency नहीं माना जाता, यह उस स्थान के अन्दर वातावरण के ऊपर निर्भर करता है. सीमित स्थान में जहाँ भी घटना हुई है यह तय करने के लिए कि यह emergency है या नहीं इसके लिए आप के पास बहुत कम समय होता है.

जैसे- अगर कोई व्यक्ति confined space के अन्दर ऐसे स्थिति में फंस जाता है जहाँ आक्सीजन का आभाव है तो यह बहुत ही emergency स्थिति है क्योंकि आक्सीजन के आभाव के कारण व्यक्ति की मृत्यु हो सकती है.

दूसरी स्थिति को समझते हैं अगर कोई व्यक्ति confined space के अन्दर कार्य कर रहा होता है और ऐसे में पैर में मोच आ जाती है या कहीं मामूली सी चोट आ जाती है और वहाँ पर आक्सीजन का आभाव नहीं है तो यह emergency स्थिति नहीं है. ऐसे स्थिति के लिए बहुत हाय-तौबा मचाने की आवश्यकता नहीं है.

यूँ समझ लें कि confined space में emergency की आवश्यकता तब होती है जब व्यक्ति के जीवन पर आ पड़ती है अर्थात व्यक्ति को बड़े खतरे के चपेट में आने की सम्भावना होती है

इसलिए confined space emergency को भांपे फिर उनके बाद जिस तरह के action की अवश्यकता हो लें. वैसे अगर कहा जाए कि कोई भी व्यक्ति चाहें जिस स्थिति में confined space के अन्दर फंसा हो वह सिचुएशन emergency ही होता है.

3. Before Enter Ensure Every Entrant Wears Proper PPE –

जब भी entrant confined space के अन्दर rescue करने के लिए प्रवेश कर रहा हो तो उसे full body harness पहनना आवश्यक होता है और वह harness बाहर mechanical device से जुड़ा होना चाहिए. यह जब करना चाहिए जब  व्यक्ति confined space के अन्दर 5 ft नीचे जा रहा हो और खतरे की सम्भावना अधिक हो.

Confined space के अन्दर जाने के लिए प्रयोग किया जाने वाला equipment/PPE पूरी तरह से अन्दर के स्थिति के ऊपर निर्भर करता है. जैसी स्थिति होती है उसी तरह का PPE or Equipment प्रयोग में लाया जाता है.

4. Survey Confined Space before Working in Them –

Confined space के अन्दर जब कोई भी घटना होती है तो ऐसे समय में quick action की आवश्यकता होती ही जिससे सफलतापूर्वक बचाव का कार्य किया जा सके. इसके लिए entry point का layout, measurement और इसके अलावा confined space के parameters के बारे में पहले पहले से पता होना आवश्यक होता है.

उपर्युक्त मापदंड जानने के साथ यह की जानना चाहिए होता है कि confined space के अन्दर जो खतरा हुआ है उसके अलावा अन्य कोई खतरा तो नहीं है, जो प्रवेश के बाद कहीं rescuer को हानि तो नहीं पहुँचा सकता.

यह जानना इसलिए आवश्यक होता है कि जब rescuer बचाव के अन्दर जा रहा हो तो उन्हें बचाव की प्रक्रियाओं में शामिल किया जा सके और सही उपकरण और बचाव करने के technique का प्रयोग कर सकें और सफल बचाव की सम्भावना को बढ़ाया जा सके. इसलिए entrant को अन्दर जाने से पहले survey की आवश्यकता होती है.

5. Have a Rescuer Team Ready –

Confined Space Emergency के दौरान बचाव के लिए जिन व्यक्तियों का चयन किया गया है उसे confined space के अन्दर कार्य के दौरान हमेशा तैयार होना entrant को इस बात का संकेत देता है कि अगर confined space के अन्दर किसी भी प्रकार की incident/accident होता है तो आसानी से बचाव का कार्य संपन्न किया जा सकता है.

इस rescue team के अन्दर वही व्यक्ति शामिल होना चाहिए जिनसे rescuer drill perform अर्थात rescuer की training दी गयी हो या उन्हें प्रमाणित किया गया हो कि यह rescuer सिमित स्थान में emergency के दौरान अन्दर जायेगा. आप के पास यह भी विकल्प होता है कि rescuer team को बाहर के hire कर सक सकते.

Rescuer team को कैसे बनाया जाए या कैसे गठन किया जाये और उसे किस तरह का training उपलब्ध कराया जाये, यह आप के व्यवसाय के लिए उपलब्ध संसाधनों के ऊपर निर्भर करता है.

6. Discuss Rescue Capabilities with Local Authorities –

Confined space के अन्दर कई बार फंसें हुए कमर्चारियों को बचाव के लिए या फिर प्राथमिक उपचार के लिए स्थानीय पुलिस, fire department या किसी चिकित्सक की सहायता लेने की अवश्यकता पड़े तो उससे पीछे नहीं हटना चाहिए. यह अन्दर फंसे व्यक्ति के जीवन का सवाल होता है.

ये जो local authority होते हैं इनके विभागों में company या contractor की तुलना में इनके पास संसाधन अधिक होते हैं. लेकिन सहायता लेने से पहले यह समझना आवश्यक होता है कि क्या इस आपातकालीन स्थिति में वह सहयोग कर सकते हैं या नहीं.