Always be Prepared to Avoid Auto Accident

About Auto Accident Procedure-

हर रोज दुर्घटनाओं में लाखों लोगों की जान चली जाती है. इसमें कुछ घटनाएँ ऐसी होती हैं जो न चाहते हुए भी घटित हो जाती है. आज इस पोस्ट के माध्यम से auto accident procedure की बारे में जानेगें,

National Safety Council की मानें तो auto accident procedure में114 दुर्घटना अगर घटित होती है तो उसमें से 1 व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है जो बहुत भयावह है. इस स्थिति का आभास हम अपने आस-पास होने वाली सड़क दुर्घटना को देखकर लगा सकते हैं या फिर media source के कारण इसका आभास कर सकते हैं.

Auto accident procedure ऐसी घटनाएँ हैं जिसमें कोई सम्मिलित नहीं होना चाहता है फिर भी दुर्भाग्य पूर्ण यह घटित हो जाती हैं.

Auto accident procedure को रोकने का सबसे अच्छा तरीका सुरक्षित रूप से गाड़ी चलाना होता है.अर्थात कहने का तात्पर्य यह है कि जब आप सड़क पर गाड़ी चला रहे होते हैं तो आप को concentrate होकर गाड़ी ड्राइव करने की अवश्यकता होती है.

Auto accident procedure से बचने के लिए सड़क पर गाड़ीचलाते समय सतर्क रहना चाहिए, सामने की तरह निगाहें गडाये रहना चाहिए, पीछे से आ रही गाड़ियों को शीशे में देखते रहना चाहिए, कभी भी बहुत नजदीक से overtake नहीं करना चाहिए और इसके आलावा अन्य ड्राइवर्स के द्वारा चलाई जा रही गाड़ियों का भी अनुमान लगाना चाहिए.

यदि आप सब कुछ ठीक ले रहे हैं तो ऐसा नहीं कि आप auto accident procedure से या फिर दुर्घटना से पूर्ण रूप से बच सकते हैं, इसलिए यह आवश्यक होता है कि आप को ऐसा क्या करना चाहिए जिससे आप auto accident procedure से होने वाले accident के risk के level को कम कर सकते हैं.

Taking Proactive Steps in Case an Accident Occur-

कोई भी दुर्घटना होती है उसका कोई न कोई कारण होता है इसलिए किसी दुर्घटना के प्रभाव को कम करने के लिए सबसे अच्छे तरीके में से एक यह है कि हम उसके लिए पहले से खुद तैयार रखें. हम निमंलिखित बिन्दुओं के माध्यम से उस तैयारी को स्पष्ट रूप से समझ  सकते हैं जो auto accident procedure से आप का बचाव कर सकता है.

  1. जो व्यक्ति गाड़ी लेकर सड़क पर जा रहा है उसे medical information, driving license, insurance के साथ vehicle registration paper वो भी up to date के पास हमेशा उपलब्ध रहना चाहिए.
  2. यही आप के vehicle में कोई भी loose item है तो उसे सही करा दें या फिर हटा दें कि कहीं वह निकलने कि स्थिति में आस-पास का कोई प्रभावित ना हो सके अर्थात प्रभाव के दौरान उनके (item) के आस-पास उड़ने की सम्भावना को रोका जा सके.
  3. हमेशा अपने मोबाईल को चार्ज रखें जिससे दुर्घटना के दौरान ambulance को कॉल किया जा सके.
  4. अपने vehicle के अन्दर first aid kit, emergency seat belt cutter और window break tools आदि अवश्य होना चाहिए.
  5. अपने गाडी में या पास पेपर, पेन आदि ज़रुर रखें

Procedure After an Accident Occur-

जब accident होता है तो ऐसे में कुछ procedure का अनुसरण करने की अवश्यकता होती हैं जो निमं है .

  1. यदि दुर्घटना किसी व्यस्त स्थान जैसे highway या चौराहे पर होती है तो अगर आप का vehicle चल सकता है तो उसे सुरक्षित स्थान पर ले जाए जिससे secondary accident से बचा जा सके. यदि चलना संभव नहीं हो पा रहा है तो अआने वाले यातायात को खतरे के प्रति सचेत रहने के लिए अपने vehicle के hazard light का प्रयोग करें.
  2. अपने vehicle को पार्क position में खड़ा कर दें और अगर सब कुछ ठीक है तो आराम करने के लिए कुछ समय निकालें. अपने आस -पास के बारे में जागरूक रहें और यह सुनिश्चित कर लें कि अपने वाहन पर या गाड़ी के आस-पास बिजली का तार टूटकर तो नहीं गिरा है या आप के बाहर निकलने से पहले अन्य कोई खतरनाक स्थिति तो नहीं नहीं उपलब्ध है. यह स्थिति जांचने के बाद ही गाड़ी से बाहर निकलें.
  3. अगर जहाँ दुर्घटना हुयी है वहाँ अगर traffic cone या road flares उपलब्ध है तो उसे दुर्घटना स्थल से थोड़ी दूरी पर खड़ा कर दें. जिसे आने वाले vehicle के लिए संकेत मिल जाए और वह अपने lane को बदल दूसरे lane से हो लें और दुर्घटना से बच सकें.
  4. यह check करना आप का दाइत्व होता है कि कहीं दुर्घटना में पैदल या अन्य vehicle से कोई और तो घायल नहीं हैं. अगर किसी के घायल होने के बारे में सुनिश्चित हो जाते हैं तो तत्परता दिखाते हुए उसे तुरंत ambulance को फ़ोन करें और अस्पताल पहुंचाने में पूरी मदद करें.जिससे उस घायल व्यक्ति की जान बच सके.
  5. Police को घटना स्थल पर बुलायें, अगर घायल व्यक्ति किसी कंपनी का employee है तो सबसे पहले उसको सूचित करें. छोटी-मोटी घटना के मामले में भी पुलिस रिपोर्ट तैयार करने के लिए पुलिस को सूचित करे जिससे रिपोर्ट के आधार पर बिमा कंपनियों से बाद निपटने में उससे मदद मिल सके.
  6. दुर्घटना स्थल पर गलती स्वीकार करने और माफ़ी मांगने से बचें. पुलिस को निष्पक्ष रूप से हुयी घटनाओं का न्याय करने दुर्घटना की गलती का निर्धारण करने दें.