Safety Guideline in Hindi

Common Workplace Safety Tips in Hindi –

Workplace पर जब कार्य हो रहा होता है तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि company के  द्वारा कितने safety guideline और practices निर्धारित की गयी है, यदि उस स्थान पर employee सुरक्षा के प्रति जागरूक नहीं है और organization के द्वारा निर्धारित सुरक्षा के दिशानिर्देश को पालन नहीं कर रहा है.

यदि कार्यस्थल पर निर्धारित सुरक्षा का पालन नहीं किया जा रहा है अर्थात कम्पनी safety guideline का पालन करने में निवेश नहीं करते हैं तो वहाँ कार्य करने वाले employees अच्छा काम नहीं करेगें.

सबसे सुरक्षित work environment तब होता है, जब कर्मचारी, संगठन(organization)के सभी स्तरों पर निर्धारित किये गए सुरक्षा में मानकों का संचार करने और उसका पालन करने के लिए एक साथ प्रतिबद्ध रहते हैं.

यही employees कार्यस्थल पर safety guidelines का पालन करते हैं तो सुरक्षा वातावरण विकसित कर सकते हैं जो employees को असुरक्षित स्थितियों और व्यवहारों की report करने के लिए प्रोत्साहित करता है और प्रत्येक दिन safety culture को विकसित करने का बढ़ावा देता है.

हम यहाँ workplace पर कुछ बिन्दुओं के बारे में बताने जा रहे हैं जो work site पर कार्य करने वाले प्रत्येक employees को पता होना चाहिए, जिससे प्रत्येक employee एक सुरक्षा कार्यक्रम विकसित करने में सहयोग कर सके और workplace पर सुरक्षा से सम्बंधित अपनी responsibilities का ठीक ढंग से निर्वहन कर सके.

आइये common work place safety के बारे में समझते हैं .

1.Be Aware of Your Surrounding at Work Place (कार्यस्थल पर अपने आस-पास के बारे में जागरूक रहें) –

प्रत्येक कार्यस्थल पर जिस तरह का कार्य होता है उसी कार्य से सम्बंधित उसमें खतरे भी निहित होते हैं चाहे वह कार्य छोटी या बड़ी क्यों ना हो. जैसे- heavy machinery, conveyor belt या फिर कार्य स्थल पर tripping जैसे संभावित खतरे हो सकते हैं.

इन सभी तरह के छोटे या बड़े खतरों से बचने के लिए या कार्यस्थल को सुरक्षित रखने के लिए सबसे अच्छा तरीका यह होता है कि आप अपने आस-पास होने वाले कार्य के प्रति जागरूक रहें.

अगर आप अपने आस-पास होने वाले कार्यों और कार्यस्थल के बारे में जितने ज्यादा परिचित रहेंगे, आप होने वाले खतरों के प्रति उतना ही aware रहेंगे. यदि आप अपने आस-पास से परिचित रहेंगे तो आप आसानी से उस कार्य स्थल पर होने वाले संभावित खतरों से आप को और आप के सहकर्मियों को मदद मिलेगा, जिसे आप उन्हें आसानी से अनावश्यक और खतरनाक स्थितियों से बचाने में मदद मिलेगा.

2.Correct Posture –

Common work place safety के अंतर्यगत यह बिंदु उनके लिए हैं जो नियमित रूप से समान उठाते हैं अर्थात manual handling करते हैं और ऐसे workers को ergonomic hazards की समस्या का सामना करना पद सकता है. Ergonomic hazards की समस्या केवल सामान उठाने वाले को ही नहीं बल्कि जो कुर्सी पर बैठ कर लगातार काम करते हैं उन्हें भी इस समस्या का सामना करना पड़ सकता है.

इसलिए आप को यह सुनिश्चित करना पड़ता है पीठ की समस्याओं, गर्दन के दर्द या कलाई में दर्द से बचने के लिए आप किस मुद्रा में बैठते हैं काम करते हैं या फिर किसी भी समान को नियमित रूप से किस तरह उठाते हैं.

अगर आप किसी भी material को उठाते हैं तो उसका तरीका यह होता है तो पीठ को सीधा रखें और पैरों पर जोर देकर उठायें, समान उठाने के लिए न तो कमर पर और कन्धों पर जोर दें.

अगर आप किसी समान को उठाने के लिए जा रहे हैं और वह भारी है तो समान उठाने के लिए थोडा सा समय लें या फिर mechanical handling करें. अगर ऐसा संभव नहीं हो पा रहा है तो किसी अन्य व्यक्ति के सहायता से ही उठायें. कभी भी भारी वस्तु जो आपकी उठाने की क्षमता से अधिक है अकेले न उठायें अन्यथा body के किसी भी भाग में अधिक खिंचाव के कारण आप को लम्बे समय तक ergonomic hazards का सामना करना पड़ सकता है.

3.Take Regular Breaks( नियमित रूप से ब्रेक लें) –

किसी भी कार्य को ठीक ढंग से करने के लिए व्यक्ति physically और mentally रूप से सेहतमंद होना बहुत ज़रूरी होता है और यह तब होगा जब किसी भी कार्य को करते हुए नियमित रूप से break लें. OSHA कहता है एक थका हुआ आदमी किसी भी घटना/दुर्घटना के लिए सबसे अधिक जिम्मेदार होता है.

जब आप ज्याद थके हुए होते हैं तो अपने आस-पास के बारे में बहुत कम जागरूक रहते हैं और ऐसे में चोट लगने या ख सकते हैं दुर्घटना की संभवना सबसे प्रबल हो जाती है. इसलिए खुद को तरोताजा या फिर कह सकते हैं fresh रहने के लिए नियमित समय पर break लेने की अवश्यकता होती है.

हाँ जब आप ज्यादा fresh महसूस कर रहे हों तो जितने भी कठिन कार्य होते हैं सबसे पहले उसे निपटा लेना आवश्यक होता है. क्योंकि ऐसे कार्य थका होने पर ठीक से नहीं हो पाते और दुर्घटना के कारण बन जाते हैं.

4.Never Take Shortcuts on Procedure –

एक phrase है “ Shortcut Cut Life.

जब आप कार्यस्थल पर कार्य कर रहे होते हैं तो workers को सुरक्षित रखने के लिए प्रत्येक काम के लिए एक procedure निर्धारित की गयीं होती है, जो कार्य करने की प्रक्रियायें होती हैं उसे सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए निर्धारित की गयी होती हैं, खासकर वे सभी काम जो भारी मशीन से संचालित किये जाते हैं.

कहने का तात्पर्य यह है की जब आप किसी भी मशीन या उपकरण से काम कर रहे होते हैं उसे संचालित करने का निर्देश होता है  और उसी निर्देश के अनुसार उसे operate करना महत्वपूर्ण होता है. ऐसे में आप उस instruction का अनुसरण न करते हुए shortcut का प्रयोग कर रहे हैं तो आप दुर्घटना का शिकार हो सकते हैं.

इसलिए आवश्यक होता है कि जब आप job कर रहे होते हैं तो हमेशा सही tools या machinery का प्रयोग कर रहे हैं की नहीं, जिससे आप के जीवन को खतरे में डालने की सम्भावना कम हो सके.

5.Be Aware of New Safety Procedure –

जब आप किसी भी organization में कार्य करा होते हैं और वहाँ safety guide line निर्धारित किया गया है तो उसके प्रति हमेशा update रहने की अवश्यकता होती है. किसी company में कार्य करते हुए यह आवश्यक है कि जब वहाँ एक नयी मशीन खरीद कर आती है या training update करती है तो आप उन परिवर्तनों के साथ जाने वाली नयी safety procedure से अवगत हैं या नहीं और आप का employer proper training के लिए जिम्मेवार है.

New safety procedure से अवगत कराने की जिम्मेदारी आप के supervisor या manager के पास होता है. अब आप की जिम्मेदारी है की आप नयी safety procedure को समझें और जब नयी मशीन का संचालन करने जा रहे हो तो उसे  सुरक्षित तरीके से operate करने को समझें.

यदि आप सुरक्षा प्रक्रिया को लेकर किसी भी तरह से दुविधा में हैं तो प्रश्न पूछना सुनिश्चित करें और confirm होने के पश्चात् किसी भी new machinery को operate करने के लिए आगे बढ़ें.

6.Keep Emergency Exit Clear-

आपातकालीन निकास द्वार पर या द्वार के सामने कभी कुछ भी न रखें, भले ही वह कुछ मिनट के लिए क्यों ना हों. क्योंकि किसी को यह नहीं पता होता है की उस आपातकालीन निकास की अवश्यकता कब पड़ जाये. यह बात भले ही अटपटा लगे लगे लेकिन सत्य यही होता है.

7.Report Unsafe Condition-

असुरक्षित स्थितियों को रोकने का एक ही तरीका है कि जब आप unsafe condition होते देखें तो तुरंत supervisor से इसकी शिकायत करें और उसका समाधान क्या है उसके लिए भरसक सहयोग करें. क्योंकि employer क़ानूनी रूप से अपने organization के अन्दर सभी employees को safe environment प्रदान करने के लिए बाध्य होता है.

Employer की यह जिम्मेवारी होती है कि वह कार्य के दौरान प्रत्येक परिस्थिति का ध्यान रखे लेकिन ऐसा करने के लिए उसे उन सुरक्षा के शर्तों से अवगत होता होता है जो safety council ने निर्धारित कर रखा है.

इसलिए अपने को और अपने आस-पास कार्य कर रहे कर्मचारियों को सुरक्षित रखने के लिए हमेशा किसी खतरनाक स्थिति या असुरक्षित स्थिति को जितना जल्दी हो सके report करने की अवश्यकता होती है, जिससे unsafe work पर विराम लगाया जा सके.

भविष्य में किसी भी दुर्घटना की पुनरावृति ना हो अर्थात असुरक्षित स्थिति को रोकने के लिए या फिर सुरक्षित तरीके से कार्य करने का समाधान खोजने के लिए साथ मिलकर काम करने की अवश्यकता होती है.

8.Use Correct Personal Protective Equipment –

सभी तरह के खतरों को दूर करने पर विचार करने के पश्चात् अंत में यह सुनिश्चित करें की work शुरू होने से पहले अपने employer के द्वारा दिए गए  PPE को पहनें है या नहीं, PPE चाहे छोटा हो या बड़ा.

Personal Protective Equipment पहने के कारण मौजूद हैं, यह workers और accident के बीच एक barrier का काम करता है और यह चोट से सुरक्षा प्रदान करता है.

Conclusion-

इस लेख के माध्यम से यह स्पष्ट हो चुका है कि किसी भी संगठन(organization) के अन्दर employees को safety पहली प्राथमिकता के आधार पर समझने और उसका अनुसरण करने प्रयास करना चाहिए. यह management और employer के ऊपर निर्भर करता है कि उसके कर्मचारियों के पास risk के level को reduce करने के लिए जितना आवश्यक है उतना training दिया गया है या नहीं. जब तक इस स्थिति को जान नहीं पायेगें तब तक सुरक्षा को 100 प्रतिशत अनुसरण नहीं कर सकते हैं.

इस पोस्ट में common work place safety, common work place safety for new employee, common work place safety for at construction site, common work place safety for every employee आदि के बारे में दिया गया है.