Hazard Identification and Risk Assessment(HIRA) in Hindi । संभावित खतरों की पहचान और उसका Risk Assessment.

Definition in Hindi – “Hazard Identification and Risk Assessment (HIRA) एक hazards identification का एक process है या कह सकते हैं एक documentation work है,जिसके माध्यम से हम कार्य स्थल पर Hazards को identify करते हैं,risk को evaluate (मूल्याँकन) करते हैं और suitable (उपयोगी) control measure को apply करते हैं जिससे hazards से जो होने वाला नुकसान के risk को कम किया जाता है”.

Purpose of HIRA (Hazards Identification Risk Assessment)Study –

  • HIRA के द्वारा हम उन factor को पता करते हैं जो work place पर होने वाले नुकसान का कारण बन सकता है.
  • HIRA इस बात पर विचार करने के लिए बाध्य करता है कि work place पर जोharm (नुकसान) के chance बन रहे हैं या किसी विशेष मामले में कोई बार-बार fail हो रहा है,और उससे जो संभावित गंभीरता आ सकती है उसका resist (निवारण) क्या है.
  • Hazard Identification and Risk Assessment (HIRA ) के माध्यम से हम यह पता करते हैं कि जो कार्य होने जा रहा है उसमे संभावित खतरे क्या हैं?और उससे निपटने के लिए additional control measure क्या दे सकते हैं.इस बारे में suggestion देते हैं.
  • HIRA employers को plan बनाने में सक्षम बनाता है और work place पर जितने भी preventive measure उनकी निगरानी करता है तथा इससे इस बात का पता आसानी से चलता है कि जो risk है उसको controlled करने के लिए प्रयाप्त रूप से safety precaution उपलब्ध है या नहीं.

अन्य Topics-

Safety Audit

Safe Working Load of Scaffold

Accident से बचाव के 14 Important Points


 Hazard  Identification and Risk Assessment(HIRA ) Procedure

  • HIRA करने से पहले हम उस area, plant या work place  का visit करते हैंजहाँ कार्य होने को है और risk की संभावना अधिक हो.
  • जो कार्य होने जा रहा है और उस कार्य में जो high risk वाले कार्य है उसको identify करना.
  • जो कार्य होने जा रहा है उसमे potential health और safety hazards को पहचानना.
  • HIRA के माध्यम से risk को control करने के लिए जो control measures उपलब्ध हैं उनका evaluation (मूल्याँकन ) करते हैं.
  • कुछ ऐसे कार्य होते हैं जहाँ high risk की संभावना रहती है ऐसे में उस risk को acceptable level पर लाने के लिए कौन से additional controls measure की ज़रूरत होती है यह hazard Identification and Risk Assessment के procedure के दौरान ही पता चलता है.

HIRA Steps 

HIRA को छः भागों में बाँटा गया है जो निम्नलिखित है-

1.Preparation-

सबसे पहले Risk Assessment team  बनाते हैं जिसमें Safety Engineering,, Site Engineer और Site Supervisor होते हैं. ये सबसे पहले उस work place पर जाते हैं जहाँ कार्य होने हो होता है और उसका HIRA किया जाना है.

वहाँ पहुँच कर से कार्य से संबन्धित complete information  इकट्ठा करते हैं.जैसे-कोई welding होने जा रहा है तो कहाँ होने जा रहा है,कौन-कौन से tools tackles प्रयोग होने वाले हैं,कितने employee उस कार्य में involve होने वाले हैं.ये सभी information कार्य स्थल से gather करते हैं.

2.Hazard Identification –

जब कार्य स्थल पर Risk Assessment Team के द्वारा information collect कर लिया जाता है तो उस work place पर कौन-कौन से potential hazards  दिखाई दे रहे हैं उसको identify करते हैं.

Hazards को identify करने के बाद उसे categories करते हैं कि कौन physical hazards है? तो कौन mechanical या अन्य कोई क्योंकि अलग-अलग hazards के लिए अलग-अलग precaution कि ज़रूरत होती है.

 इसे भी यहाँ पढ़ें-

 

·        Types of hazards

·        Risk Assessment

·        Lock Out Tag Out

·        Personal Fall Arrest System

·        Tool Box Talk (TBT) in Hindi

·        Safety Rules of Oxygen Cylinder

·        Personal Protect Equipment

·        Accident, Near Miss, Incident

·        Construction Site पर Hazards और उससे संबन्धित Precaution .

3.Risk Assessment-

Work place पर जब hazards को identify करते हैं उसका Risk assessment करते हैं.मतलब यह कि जो Hazards मिला है उसमे risk क्या है और उस risk का level क्या है.Risk Matrix  कि सहायता से यह पता करते हैं

 4.Plan Control Measure –

जब Risk assessment कर लेते हैं तो उसमें जितने भी Hazards को identify किया है उसके लिए कौन से control measure apply करने हैं,यह पता करते हैं जिससे कि work place पर कार्य के दौरान risk के level को कम किया जा सके.

5.Record the Finding –

अब तक जितने भी record  find किए हैं उसको format के माध्यम से लिख लेते हैं या कहीं note कर लेते हैं जिससे कि ज़रूरत पड़ने पर पुनः उसे आसानी से समझ सके और control measure को apply कर सकें.

6.Implementation and Review  –

इसके बाद जो हमने Hazards को identify कर के plan बनाया और उनके control measure पता करने के बाद उसे work site पर implementation करना होता है और उसका review करना होता है कि क्या जो implementation किया है क्या वह पूरी तरह तरह से plan के according है या नहीं.

Risk Matrix 

Risk Matrix एक table  है जिसके माध्यम से हम work place पर risk के level को calculate करते हैं. कहने का तात्पर्य यह है कि कार्य स्थल पर जितने भी Hazards को identify किया गया है उसमें कितना कम या ज्यादा risk है.

क्योकि risk के according ही हम control measure को apply करते हैं और risk के level को कम करते हैं.

 Risk =Severity x Probability

Formula के according हम यह जान पाते है कि risk के level को पता करने के लिए severity और probability का multiply करना पड़ता है.

Severity

Severity के help से हम यह जान पाते हैं कि work place पर जो hazards को identify किया गया है उससे कितना ज्यादा या कम नुकसान होने कि संभावना है.

Probability 

Probability के माध्यम से इस बात का पता चलता है कि जो hazards identify किया है उससे नुकसान होने कि प्रतिशत chance हैं.इसके माध्यम से हम risk को calculate करते हैं.

Risk Matrix

इस chart को Risk =Severity x Probability के formula पर बनाया गया है.हम देखते हैं कि अगर severity और probability कम है तो risk का level कम है तथा severity और probability ज्यादा है तो risk का level भी very high होता है.

अगर probability या severity दोनों में एक कम तथा एक ज्यादा होता है ऐसे में भी risk का level low  होता है.

अगर severity 5 होता है और probability 3 होता है तो ऐसे में formula के अनुसार

Risk =Severity x Probability

Risk =5 x 3

Risk =15

अतः देखते हैं कि यहाँ भी Risk का level high है.

ऐसे में हम site पर hazards के observation के बाद आसानी से risk का level पता करके आसानी से control measure उपलब्ध करा कर risk के level को reduce (कम) कर सकते हैं.

 Hazard Identification and Risk Assessment (HIRA) Check List

HIRA Check List

इस post में HIRA से संबन्धित अधिक से अधिक information देने की कोशिश की गयी है अगर कुछ छूट गया हो तो comment के माध्यम से अवगत कराएं जिससे post को update किया जा सके और अगर आप को लगता है कि पोस्ट सही है तो comment के माध्यम से बताये और अन्य को शेयर करना न भूलें.

इसे भी यहाँ पढ़ सकते हैं-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *