Lighting System at Construction Site or Light System

    0
    2

    Lighting System at Construction Site

    Construction Site पर रात मेँ काम के समय proper light का होना अनिवार्य होता है.जिससे की रात मेँ कम light के होने के कारण जो accident होता है उस पर विराम लग सके.इसलिए site पर जिस तरह का work  होता है वहाँ हर एक job के लिए proper light का arrangementकरते हैं. जिससे काम करते समय कम लाइट के कारण किसी भी प्रकार का व्यवधान उत्पन्न न हो.

    Light Plan 

    1.Work site पर इस तरह लाइट के level को maintain करके रखेंगे कि work जो हो रहा हो वह safely आगे बढ़ता रहे.

    2.Traffic control के लिए जो light plan develop किया गया है उसको follow किया जा रहा है या नहीं और जितने भी vehicle s आ जा रहे हैं उसको सही direction देने के लिए traffic controller को appoint किया गया है या नहीं और systematic light का arrangement किया गया है या नहीं .

    3.जहाँ-जहाँ traffic sign लगा हुआ है वहाँ-वहाँ proper light का arrangement किया गया है या नहीं.

    4.प्रत्येक turn पर blink  करता हुआ yellow  light होना अनिवार्य होता है,जिससे कि driver को route समझने मेँ देर न लगे.

    5.काम के दौरान जहाँ work plan को display किया गया होता है,वहाँ proper light का होना अनिवार्य होता है कि work plan दिखे और उसको follow करने मे किसी भी प्रकार की कमी न रह जाये.

    6.Work place कई बार ऐसी स्थित बन जाती है जहाँ worker का shadow  काम मे व्यवधान उत्पन्न करता है,ऐसे स्थान पर उस तरह के light का arrangementकिया जाता है तो worker के shadow को खत्म कर सके.

    7.बहुत से ऐसे कार्य स्थल पर tower light का arrangementकिया जाता है जिसकी आवश्यकता होती है ऐसे से आप को यह देखना होता है कि power कटने की स्थिति मे secondary source के लिए जो विकल्प है वो पूरी तरह कारगर है या नहीं.

     Lighting Level

    1.Work place पर इतना भी अधिक लाइट नहीं होना चाहिए की आंखे चौंधियाने के कारण workers को disturb हो और खतरे का कारण बन जाये.इसलिए light का level maintain रखना necessary होता है.

    2.Light work place पर कार्य के अनुसार होना चाहिए,जहाँ high level लाइट की आवश्यकता हो वहाँ उसे maintain रखें और जहाँ low की आवश्यकता हो वहाँ उसका level maintain रखें.

    3.जिस area मेँ construction equipment operate  किए जा रहे हों वहाँ  safe environment के लिए लगभग 10fc लाइट का होना ज़रूरी होता है और इसे बराबर maintain करके रखा जाता है.

    4.ऐसे स्थान जैसे footpath patching ,electrical maintenance, mechanical maintenance या electrical या mechanical production houses मेँ light का स्तर हमेशा उच्च होना होना चाहिए और लगभग 20 fc होना चाहिए.

    5.लाइट को हमेशा lumen मेँ मापा जाता है और construction site के लिए maximum  10fc  और minimum  5fc होना चाहिए.

    6.लाइट को measure करने के लिए हमेशा photometer का प्रयोग करते हैं और work place पर उपलब्ध होना चाहिए जिससे light को maintain करने मेँ किसी भी प्रकार का व्यवधान उत्पन्न न हो.

    Sufficient Light Arrangement at Location 

    Location पर sufficient लाइट का होना अतिआवश्यक होता है.इसलिए उस जगहों को सबसे पहले identify किया जाता है जहाँ आवश्यकता के अनुसार लाइट का होना अनिवार्य होता है.जब ऐसे place को identify कर लेते हैं तो दुसरा काम यह तय करना होता है कि जिस place पर लाइट को identify किया है. वहाँ उंसकी heightक्या होनी चाहिए.

    कई बार construction site पर स्थिति ऐसी हो जाती है कि halogen को काफी नीचे लगा दिया जाता है जिसके कारण उधर से गुजरने वाले vehicle  अनियंत्रि होकर divider से टकरा जाते हैं क्योकि driver कि आँखें चौंधिया जाती है.

    इसलिए ज़रूरी होता है कि पहले light plan को बनाएँ और फिर उसे systematic implement करें.

    Choose  the best light option 

    1.कई बार स्थिति ऐसे होती है कि work place पर high level light कि ज़रूरत पड़ जाती है ऐसे मे लाइटलगते समय इस बात का ध्यान देना आवश्यक होता है कि high level light traffic मेँ व्यवधान उत्पन्न न करे. लाइट लगाते समय इस बात का पूर्णतः ध्यान देना चाहिए.

    2.जहाँ ज्यादा लाइट की ज़रूरत हो वहाँ balloon  light का प्रयोग करना चाहिए.इस तरह कि लाइट बड़े area को cover करता है.

    3.अक्सर देखा जाता है की work place पर जितनी लाइट की आवश्यकता होती है उतनी लाइट नहीं होती है. ऐसे मे शिकायत करने पर इतने चमकदार light का arrangementकर दिया जाता है जहाँ चकाचौंध के कारण काम करना मुश्किल हो जाता है.

    4.Company के अंदर road construction  के समय कार्य का स्थान स्थिर होता है. ऐसे मेँ जहाँ तक कार्य होना होगा उसे observe करते हुये लाइट का arrangement कर देना चाहिए. अगर यह संभव नहीं हो पा रहा है तो mobile light का arraignmentकरना चाहिए जो कार्य के साथ shift होता रहे.

    5.Balloon light वहाँ अत्यधिक कारगर होता है जहाँ workers के shadow  के कारण काम करने मे दिक्कत हो रही है.हो सके तो ऐसे place पर balloon light का प्रयोग करें. और अगर यह नहीं संभव हो पा रहा है तो tower light अच्छा विकल्प हो सकता है.

    6.Construction site पर LED सबसे अच्छा विकल्प होता है. सबसे पहला फायदा  यह होता है कि यह अन्य लाइट्स जैसे fluorescent, Halide आदि कि तुलना में  कम energy को consume करता है तथा work site पर जो high temperature रहता है उसे काफी हद तक control में रखता है.

    7.Construction site पर जिस लाइट का प्रयोग होने जा रहा है उसका rating ज़रूर जांच लें.High rating के bulb प्रयोग करना ज्यादा सुविधाजनक होता है और फायदेमंद होता है.

    8. Portable light plant tower कार्य स्थल पर lighting system के लिए एक बेहतर विकल्प होता है. यह अगल-अलग height पर आवश्यकता अनुसार लगाया जाता है. अगर construction site पर गतिशील लाइट की ज़रूरत होती है तो उसे किसी भी प्रकार के vehicle से जोड़ कर इसे dynamic बनाया जा सकता है.

    9.Portable Light plant लगाते समय place बहुत मायने रखता है.इसे वैसे स्थान पर कभी नहीं लगाते हैं जिधर से traffic का arrangement हो अर्थात गाडियाँ जिधर से आवागमन हो.क्योकि इससे वाहन चालकों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है.Drivers की आँखें चौंधिया जाती है और ऐसे में vehicle अनियंत्रित होकर किसी वस्तु या divider से टकरा जाती है.

    इसे भी जाने-