Responsibilities of a Safety Officer during the Work at Height

Responsibilities of a Safety Officer During the Work at height

जब work at height का कार्य शुरू होता है तो खतरे की संभावना भी बढ़ जाती है.ऐसे मे जो HSE  department  होता है, उसकी भी responsibilities  बढ़ जाती है. तो आइये जानते हैं की work at height के कार्य शुरू होने से पहले, workers के साथ site  पर उपलब्ध safety employee  की responsibilities क्या होती है. और कौन-कौन से point उनके साथ discuss करना होता हैं

 

Responsibilities –

Permit Check-

Work at height शुरू होने से पहले safety officer को permit जाँच लेना होता है.जिससे पता चल जाता है कि height पर किस तरह का कार्य होने जा रहा है और उन कार्यों मे कौन-कौन से खतरे कि संभावना है, और उससे कैसे बचा जाये,यह बताने मे काफी मदद मिलता है.

Medical Test-

जब Safety Officer site पर जाए तो यह पूछना न भूले की जीतने भी workers, work  at height के लिए तैयार हैं, उनका normal medicalजैसे-Blood  Pressure या height phobia  हुआ है की नहीं। बिना छोटे-मोटे ही सही medical test हुये किसी को height पर work के लिए जाने की अनुमति नहीं देते हैं.हाँ इस बात का ध्यान देना पड़ता है कि अलग-अलग company के अलग-अलग medical test नियम होते हैं, और उन्ही के अनुसार rules  को follow  करना होता है.

TBT at Work  Place –

Safety office  को चाहिए की TBT  हमेशा working location  पर ही हो.जिससे यह बताने मे आसानी होती है जी वर्तमान समय मे जिस site पर कार्य चल रहा है कौन-कौन से खतरे हैं, और उससे कैसे निपटा जाये.क्योंकि अलग-अलग location  पर अलग-अलग खतरे की संभावना बनती है.TBT के दौरान निम्नलिखित points को बताना न भूलें.

1.Workers से पूछना बिलकुल न भूलें कि इसके पहले उसने कभी height पर work किया है या नहीं. अगर उसका जवाब हाँ तो ठीक हैं, अगर उसका जवाब नहीं होता है तो सबसे पहले उससे height पर होने वाले खतरे और उससे संबन्धित precaution के बारे मे पूछे, और जितने भी आप को doubt हैं वह सभी clear कर लें.

2.Height पर होने वाले कार्य को जाने और workers से वहाँ प्रयोग होने वाले tools, tackles के बारे मे जाने और उसको ले जाने के लिए bag का प्रयोग किया जा रहा है या नहीं.Tools को हाथ मे ले जाने के लिए साफ-साफ मना कर दें.

3.Safety Harness ,Fall Arrester  के बारे deeply बात करें।उसे प्रयोग करने के ढंग के बारे मे बात करें.अगर किसी workers के द्वारा आप को satisfaction उत्तर नहीं मिलता हैं तो उसे proper ढंग से समझाने का हरसंभव प्रयास करें.

4.Safety Harness के anchorage position के बारे मे तथा life line के बारे मे discuss करना न भूलें.इसके साथ PPE  Rope ,Life Line, Celling Rope  में अंतर बताएं और उनके durability के बारे मे भी बताएं.

5.PPE के शुरुआत zero से करें, Zero का मतलब सर से या पैर से है.अगर आप ऐसा करते हैं तो किसी भी PPE  के छूटने कि संभावना बहुत कम हो जाती हैं जो Work at height पर हो रहे कार्य के अनुसार दिया जाना होता है.

6.अगर work scaffold के माध्यम से हो रहा है तो guard  rail ( Mid Rail, Top Railऔर Toe Board ) के बारे मे भी बात करें, और Top rail के anchorage  position के बारे मे भी चर्चा करें, और उसमे anchorage  करने के पश्चात check कर ही work start करने को कहें.

7.Work at Height के TBT मे यह ज़रूर बताएं अगर Scaffold मे green tag  लगा भी है, तो उस पर चढ़ कर तुरंत काम न करना शुरू कर दें.पहले घूम कर यह देख लें कि कहीं scaffold के component missing तो नहीं हैं.क्योकि कई बार किसी और site के scaffolding  erector, component लाने दूर नहीं जाते और पास के ही scaffolding से component खोल ले जाते हैं.इसलिए scaffolding पर चढ़ने से पहले scaffold  के चारों तरफ घूम कर inspection कर लेना चाहिए.

8.Electric High Tension voltage के बारे मे भी बताएं जो कार्य करने वाले स्थान के आस-पास से गुजर रहा हो.

9.TBT मे इस बात पर भी focus करना चाहिए कि location पर बंदर का झुंड या मधुमक्खी के छत्ते Height पर उपलब्ध नहीं होना चाहिए.जो कभी भी खतरे का कारण बन सकता है.इसलिए Height पर जाते समय बंदर्रों और मधुमाक्खीयों केआई जाँच ज़रूर कर लें

10.हवा के speed को जाँचना ज़रूरी होता है,अगर हवा ज़ोर से चल रही हो तो ऐसी स्थ्ति मे काम करने नहीं देना होता है.इसके साथ अगर धूप ज्यादा है तो यह भी देखना होता है कि workers को Di-Hydration  से बचाने के लिए company ने किसी भी प्रकार का arrangement किया है या नहीं.

11.इन सभी points के साथ यह बताना न भूलें की अगर height पर work हो रहा हो तो नीचे की area को barricade करना न भूलें जिससे की कोई व्यक्ति उस route का प्रयोग न करे और ऊपर से किसी material के गिरने से चोटिल न हो जाये.

Conclusion-

ऊपर कि सभी responsibilities safety officer की होती हैं.अगर safety officer इसको honestly follow  करता है तो काफी हद तक accident पर control किया जा सकता है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *