Safety Motivational Speech in Hindi

जब TBT (Tool Box Talk ) दिया जा रहा है तो ऐसे समय में काम से सबंधित होने वाले से hazards और उससे संबन्धित Precaution  के अलावा काम करने के safe procedure के बारे में बताया जाता है. जिससे की काम के दौरान कम से कम accident/incident हो और सभी employee सुरक्षित रहें.

लेकिन हम अक्सर देखते हैं की हमारे अच्छे TBT के बाद भी कहीं न कहीं workers के अंदर safety से संबान्धित जागरुकता नहीं आ पाती है और समय-समय पर दुर्घटना होती रहती है.

ऐसे में जब accident investigation करते हैं तो यह पाते हैं की worker के unsafe activity के कारण दुर्घटना घटित हुयी है क्योकि उसके अंदर safety को लेकर जितनी awareness चाहिए उतना awareness workers के अंदर नहीं है.

यही कारण है की हर रोज दुर्घटना हो रही हैं और कोई न कोई employee  इसकी चपेट में आ रहा है.जब कोई बड़ी दुर्घटना होती है और external audit होता है ऐसे में company के safety policy पर उँगली उठता है और बाहर में इसकी market value कम होने लगती हैं और contractorको आगे चल कर नए contract मिलने में समस्या होती है.

इस समस्या से पार पाना इतना आसान नहीं होता है.क्योकि इसमे direct worker responsible होता है.ऐसे में safety employee आखिर कब तक खड़ा होकर काम कराएगा, जिससे दुर्घटना पर विराम लग सके.

ऐसी स्थित से निपटने के लिए safety  employee के पास एक ही रास्ता बचता है कि वह employee से personally interactहोकर इस समस्या का समाधान कर सकता है तो आइये उन बिन्दुओं पर चर्चा करते हैं जिससे TBT में बताने के बाद बाद हम परिणाम देखेंगे कि काफी हद तक दुर्घटना पर विराम लगा होता है workers के अंदर safety को लेकर awareness आ जाता है.

तो आइये उन बिन्दुओं के बारे में यहाँ पर चर्चा करते हैं जिससे की आसानी से workers के अंदर सुरक्षा से संबन्धित जागरुका ला सके-

TBT (Tool Box Talk ) Points-

1.पहली बात आप को बोलने की कला आनी चाहिए और जिससे की आप बोलने के दौरान workers से interact हो सके.

2.आप जहाँ कम कर रहे हैं उस क्षेत्र में होने वाले दुर्घटना के बारे में पूर्ण जानकारी होनी चाहिए जिससे की आप को वहाँ होने वाली दुर्घटना और उससे संबन्धित precaution के बारे में ब्ताने में आसानी हो.

3.आप की आवाज तेज और कडक होनी चाहिए जिससे की आप की आवाज एक दम पीछे तक सुनाई दे और कोई workers आपकी बात सुनने से वंचित न रह जाए.

4.जो काम हो रहा है उससे संबधित PPE के बारे में पूर्ण जानकारी होनी चाहिए जिससे बताने के दौरान आप confuse  न हो.

5.आप को बोलने के दौरान workers से उस कार्य से संबन्धित प्रश्न पूछना न भूलें और किसी workers के सही बताने पर प्रोत्साहित शब्द कहने से न चूकें .

6.किसी workers के द्वारा गलती करने पर उसे अशब्द न कहें उसे प्यार से समझाने की कोशिश करें और इतना उससे familiar हो जाएँ, जिससे उसे अपने गलती पर पाश्चात्ताप हो सके.

7.अन्य site पर होने वाले दुर्घटना के बारे में बताए तथा उससे होने वाले personal injury के कारण से अवगत कराएँ.

8.उसे बात-बात में उसके family की याद दिलायेँ, जिससे वह unsafe activity करते समय अपने family को याद करे और safe activity करने के लिए बाध्य हो जाए.

Emotional attachment-

TBT के दौरान आप उन्हे कुछ इस तरह समझाएँ-

आप यहाँ किसलिए आए हैं तो जवाब आएगा की पैसे कमाने के लिए? आप पैसा क्यों कमाना चाहते हैं?बीएस इसलिए की आप की family  अच्छे से रह सके आप के बच्चों की जरूरते पूरी हो सकें.उनके पढ़ाई-लिखाई अच्छे स्कूल में हो सके.आप के बीबी को किसी के घर जाकर बर्तन न साफ़ करनी पड़े.आप बस इसलिए दिन रात एक कर यहाँ कठिन परिश्रम करते हैं की आप अपनी जरूरतों को पूरा कर सके.

Company भी चाहती है की आप यहाँ कमाए और अपने सभी जरूरतों को पूरा कर सके लेकिन आप जो हैं कि ठान चुके हैं कि अपने बच्चों को अच्छे स्कूल में शिक्षा नहीं दिलायेगें, अपने बीबी से घर-घर बर्तन माजवाएगे, बच्चों को हर चीझ के लिए तरसाएगे और माँ का इलाज के आभाव में जान लेके रहेगे.

क्या आप यही सब न चाहते हैं? अन्यथा सब कुछ जानते हुये भी आप safety को कैसे ignore कर सकते हैं.आप ज्यादा production के चक्कर में या supervisor के बहकावे में आकार आखिर क्यों unsafe activity करते हैं.

मेरी नज़र में तो आप वही चाहते हैं जो पत्नी और बच्चों के बारे में कहा हूँ.छोड़िए ये सब बातें आखिर मैं क्यों ऐसी बहकी-बहकी बातें कर रहा हूँ.आप तो खुद समझदार है लेकिन यही सोच कर मैं दंग रह जाता हूँ कि इतना समझदार होने के बाद भी आप ना समझी कैसे दिखाते हैं?

कैसे आप अपने बीबी, बच्चे और माँ का चेहरा भूल जाते हैं यह मेरे समझ से परे हो जाता है. मुझे तो कभी-कभी लगता है की आप के दिन में उन्हे प्रति थोड़ी भी मोहब्बत नहीं है.

आप को यह बात कड़वी ज़रूर लग रही है लेकिन आप  के activity को देखकर मैं यह कहने के लिए मजबूर हूँ.

खैर छोड़िए मैंने कुछ ज्यादा आप से familiar हो लिया और हो भी क्यों ना, घर जाने के बाद मेरी छोटी प्यारी बिटिया गले लगती है तो आप की याद जरूर आती है की आप को आखिर क्यों न अपने बेटी के गले लगना याद आता है कि आप सुरक्षित पहुंचेगे तभी तो अपने नन्ही- नन्ही उँगलियों से आप के गाल को प्यार से सहलाएगी.

मैं देख रहा हूँ यहाँ आप को अपने परिवार की याद आ रही है क्योकि लगभग सभी के आँखों के कोर गीले हो गए हैं लेकिन जब काम के लिए जाते हैं तो परिवार को कैसे भूल जाते हैं यह मेरे समझ में नहीं आता है.

आखिर क्यों इसका जवाब जब से यहाँ हूँ तब से लेकर आज तक नहीं सोच पाया हूँ, खैर ?

यहाँ पर परिवार से हटकर एक और उदाहरण के माध्यम से आप को आप को समझना चाहूँगा जिससे की आप को कहीं समझ आ जाये.

आप यहाँ 10 से 12 घंटे लगातार जी तोड़ मेहनत करते हैं तो मुश्किल से 400 से 500 रुपए आप को मिलते हैं और शायद आप अपने जान की कीमत इतनी ही लगाते हैं.

यह मैं इसलिए कहने पर मजबूर हो रहा हूँ और यह काफी हद तक सत्य भी है क्योंकि काम के दौरान आप कंपनी के लिए जान हथेली पर लेकर काम करते हैं.

अब आप सोच रहे होंगे कि कैसे आप जान हथेली पर लेकर काम करते हैं तो मैं आप को बताना चाहूँगा कि आप को company जो PPE (सुरक्षा कवच) देती है वह आप के और दुर्घटना के बीच के barrier का काम करती हैं और आप हैं कि उस barrier को खत्म करके काम करना पसंद करते हैं.

यही सब देखकर मैं यह कह सकता हूँ कि आप अपने जान की कीमत 400 से 500 रुपए लगाते हैं.

इसके साथ मैं अपनी बातों को विराम देता हूँ और आगे देखता हूँ की क्या सच में आप को अपने परिवार से मोहब्बत है या एक दूसरे को देखकर आँख की पलके नम हो गयी थी.

इसके अलावा कोई motivation story आप को याद हो तो उसे सुनाए जिससे की workers उससे inspire हो सके और safe ढंग से काम करने के लिए बाध्य हो जाये.

यहाँ मैं आप से एक story कहने जा रहा हूँ यह मेरी काल्पनिक कहानी है लेकिन इसी तरह की कहानी आप को बनानी होगी और TBT के समय सुनाना होगा जिससे उनके ऊपर इसका impact पड़ सके और वो safety के rules को follow कर सकेंगे-

Safety Motivational Story-

कहानी कुछ इस तरह है-

एक गाँव में एक दंपति रहता था.उसका एकलौता बेटा था. बेटा बड़ा ही शालिन और सभ्य था. पूरे गाँव के लोग अपने बच्चो को उसके शालीनता का उदाहरण देते थे. वह गाड़ी भी चलाता था तो उतनी ही शालीनता से. अपने जाने में वह traffic के सभी नियमों का पालन करता था लेकिन उसके अंदर एक कमी थी.वह कभी helmet नहीं लगाता था.उसका कहना था की वह गाड़ी कभी भी तेज अर्थात 40 km /hour से ज्यादा नहीं चलाता था. उसका कहना गलत था लेकिन वह over confidence था और कभी helmet नहीं पहनता था.

एक दिन की बात है वह बुना helmet पहले bike लेकर निकला और पीछे से आ रही अनियंत्रित bike ने उसे ठोकर मार दिया. वाग गिरा और उसका सर पत्थर से जाकर टकरा गया और मौके पर ही उसकी मृत्यु हो गयी.

अगर वह helmet पहना होता तो उसकी जान बच जाती लेकिन वह कभी हेलमेंट नहीं पहनता था और यही helmet न पहनना उसका काल बन गया.

लोग कह रहे थे की उसका संयोग था,इसको इसी से मारना था लेकिन मेरा कहना है यह संयोग नहीं उसकी लापरवाही थे जो मौत का कारण बनी.

इसी तह आप के अपने आस-पास के दुर्घटनाओं से का तह तक जाएँगे तो यही पाएंगे की कहीं न कहीं safety precaution का न follow करना मौत का कारण बना.

मैं नहीं चाहता की आप के साथ कुछ ऐसा हो, बस आप से विनती है की आप सुरक्षा के उन सभी नियमों का पालन करे जो आप से कहा जा रहा है. जिससे आप सुरक्षित रहे और आप के आसा-पास के लोग भी.

इसे भी जाने-

When More Accident Happen at Work Place II जब कार्य स्थल पर दुर्घटना बढ़ जाये

MSDS (Material Safety Data Sheet) Meaning Certificate Full Form Format in Hindi-

Types of Fire II आग के प्रकार II उस पर काबू पाने की विधि

Common Hazards and their Controls Measures at Construction Site

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *