What is Safety Audit or Safety Audit in Hindi

    0
    6
    Blue collar workers are at construction site. They are working as team. Stay outdoor. Blue collar worker and construction concept.

    Safety audit एक संचरित प्रक्रिया ( structured process) होता है, जिसके अंतर्गत company के स्वस्थय (health) और सुरक्षा (safety) के management system को जाँचा जाता है कि यह कितना प्रभावित तथा कितना विश्वसनीय है और यह system कितनी कार्यकुशलता से कार्य कर रहा है.

    Safety Audit Procedure

    Safety Audits Purpose in Hindi –

    Safety audits करने के दो प्रमुख उद्देश्य होते हैं –

    1. इसके conduct करने का पहला उद्देश्य यह होता है company के अंदर उन सभी सुरक्षा और स्वास्थय के नियमों को पालन किया जा रहा है या नहीं जिसे पालन करने और कराने कि ज़िम्मेदारी employer कि होती है. यह safety company के employee के द्वारा ही संचालित किया जाता है.
    2. इसका उपयोग company के safety program और process के weakness को पता करने के लिए किया जाता है. इस तरह के safety audits को company के अंदर safety plan को design करने और सुरक्षतामक कार्वाइयों ( safety corrective )कि पहचान के लिए एक गाइड के रूप में प्रयोग में लाया जाता है.

    इस पोस्ट में safety audit means, safety audit kya hai, safety audit checklist, safety audit ppt, what is safety audit, safety audit pdf आदि के बारे में दिया गया है


    Safety Audit Definition –

    Safety Audit एक तरह का systematic जाँच होता है,जिसके अंतर्गत यह पता किया जाता हैं कि company के लिए जो safety guide line  निर्धारित किया गया है,उसको फॉलो किया जा रहा है या नहीं.”

    Safety Audit Meaning – सुरक्षा लेखा प्रक्रिया 

    Safety Audit Types or Types of Safety Audit –

    1.Internal Audit-

    यह audit, कंपनी के safety employees के द्वारा किया जाता है.यह इसलिए किया जाता है की company के अंदर safety को और improve किया जा सके.लेकिन इसके disadvantage भी निकल आते हैं,जैसे कि- Safety Audit के दौरान अगर कोई employee, unsafe  ढंग से कार्य करते हुये पकड़ा जाता है तो उसे सिर्फ डांट-डपट के छोड़ दिया जाता न कि किसी प्रकार से fine किया जाता हैं कि चलो डबल्यूएच कंपनी का employee है जबकि नियम के अनुसार ऐसा नहीं होना चाहिए.

    2.External Audit-

    External safety Audit बाहर के agency, government के किसी employee  या third party के द्वारा किया जाता है। यह Internal Audit से बिल्कुल अलग होता है.इस audit के दौरान अगर कोई employee unsafe ढंग से कार्य करते हुये पाया जाता है या कंपनी,सरकार द्वारा निर्धारित safety guide line को follow  नहीं करती हैं तो ऐसे मे audit team  के द्वारा company पर एक बड़ा fine  लगाया जाता है.इसलिए external audit के दौरान auditor को जिस documentation कि ज़रूरत पड़ती है उसे देने के लिए एचआर संभव प्रयास किया जाता है.

     Safety Audit Procedure

    1.Audit Objective-

    Audit के अंतर्गत यह पता किया जाता है कि ऑडिट का क्या उद्देश्य है,और उस पूरे organization के लिए यह कितना महत्वपूर्ण है।और कौन area मे इसकी आवश्यकता है उस पर focus किया जाता है।

    2.Selection of Audit Team –

    इस Point के अनुसार audit team  मे number of employee  कितने हैं या कितने होने चाहिए यह company के ऊपर depend करता हैं कि company छोटी है या बड़ी.

    3.Contact with Organization Being-

    यह point कहता है कि जहाँ Audit करने जाना है उससे पहले उस कंपनी से contact करेगे.  और अपना जो audit plan  है समझायेगे, और ऑडिट करने के लिए जिस documentation की आवश्यकता होगी उसकी डिमांड करते हैं.

    4.Under Taking  the Audit-

    इसके अंतर्गत auditor जिस कंपनी का ऑडिट करना होता है, उस कंपनी का दौरा करते हैं और ऑडिट के दौरान जिस documentation की ज़रूरत पड़ती है, जैसे RA Sheet, Checklist, Work Permit System  आदि उसे माँगते हैं, और फिर पुराने ऑडिट के जो पेपर होते हैं उसको मंगाते हैं. और नए वाले से मैच कर यह पता करते हैं कि company, safety मे कितना improvement की है अगर variation ज्यादा मिलता है तो फिर उसके अनुसार कंपनी को दंडित करते हैं.

    5.Conclusion-

    इसके अनुसार auditor जो ऑडिट किया रहता है उसको analysis करता है. और जिस point पर उसे doubt होता है उसे organization से contact कर क्लियर करता है.

    6.Providing Reports of Finding –

    Finally वह अपना रिपोर्ट बनाता है और सेफ़्टी ऑडिट करते समय जिन-जिन कमियों को पाता है वह कंपनी को सूचित करता है वो भी written  document मे highlight करके.

    7.Action  by the Organization

    Safety audit करते समय auditor team  के द्वारा जो कमियाँ पायी जाती हैं वह कंपनी को उससे अवगत कराती हैं और यह देखती है की कंपनी में safety  issue  है उसे दूर करने का प्रयास करती है या नहीं.

    The Effective Safety Audit Steps –

    Safety audit report

    यही आप कुछ करने के लिए जा रहे हैं या करने का प्रयास कर रहे हैं तो इसे करने का एक procedure होता है जो ज्यादा प्रभावित हो सकता है और आप आप करने समय कुछ बिन्दुओं के बारे में विशेष ध्यान देते हैं. एक साधारण बातें बहुत सी चीज़ों पर लागू होता है लेकिन सुरक्षा पर यह कुछ ज्यादा ही प्रभावी होता है.

    एक अच्छी तरह से तैयार की गयी और उसे ठीक ढंग से लागू की गयी safety program जो company स्वस्थ्य और सुरक्षा में पहले की अपेक्षा काफी परिवर्तन ला सकता है.

    सच तो यह है कि जितने भी organizations जो सुरक्षा के मानकों पर सौ फीसदी खरा उतरते हैं, वे सभी safety audit program को प्राथमिकता देते हैं और इसे संचालित कराने में कभी भी विलंब नहीं करते हैं.

    अतः यह आवश्यक है कि organization, safety के level को high करने के लिए safety audit के विशेषताओं को समझे और उसे अपनाए.

    अब हम यहाँ आप को उन पाँच safety audit points के बारे में बताने वाले हैं जिसके माध्यम से हम प्रभावित safety audit का अंजाम से सकते हैं जो सुरक्षा और सफलता की दृष्टि से काफी उपयोगी साबित होगा.

    1.Safety Audits Plan and Preparation –

    अगर safety audit की बात की जाए तो यह इतना आसान नहीं होता है. इसे करने के लिए एक योजना और मेहनत की आवश्यकता होती है. सबसे पहले आप को इस प्रश्न का उत्तर ढूँढना होता है कि आप safety audit क्यों करना चाहते हैं? और इसके यह बाद जानने का प्रयास करें कि आप को safety audit से क्या प्राप्त होने वाला है?

    अगर इस प्रश्न का उत्तर ढूँढ लेते हैं तो आप को सेफ़्टी ऑडिट का एक focus और purpose मिलता है जिसे आप प्रभावित बनाने के लिए हर संभव प्रयास करते हैं.

    अगर आप safety audits का plan कर रहे हैं तो निम्नलिखित प्रश्नो पर विचार करने की आवश्यकता होती है, जो safety audit को ज्यादा प्रभावी बनाती है –

    • जब सेफ़्टी ऑडिट किया जाएगा तो यह पहले से तय करना होता है कि आप कौन- कौन  से कार्यों या विभागों को safety audit  करना चाह रहे हैं ?
    • किन item या activities को इसमें शामिल करना है, यह पहले से तय करना होता है ?
    • यह पहले ही decide करना होता है कि inspection को कितनी बार करना होगा ?
    • कौन इस safety audit को conduct करेगा ?
    • Inspection को कैसे conduct किया जाएगा यह पहले plan का हिस्सा होना चाहिए ?
    • किस तरह की follow up activities यह तय करेगी कि safety audit करने के पश्चात company के अंदर health और safety में improvement किया गया है ?
    • क्या management इस बात को समझता है या समझने का प्रयास करता है कि कार्य करने का जो procedure चल रहा है उसमें बदलाव कि ज़रूरत है  या engineer या management expert कि ज़रूरत है?

    किसी भी अच्छी तरह से काम करने वाले management system को safety audit या दिशा निर्देशित करती है कि work को कैसे किया जाना चाहिए और सुधारात्मक कार्रवाई ( corrective action ) क्या होना चाहिए. यह उपर्युक्त प्रश्न के उत्तर के आधार पर किया जा सकता है.

    2.Define the Scope –

    एक सफल audit सही चीज़ों का निरीक्षण करता है. इस बात सभी जानते हैं कि सब कुछ audit किया जाना संभव नहीं होता है, इसलिए safety audit के समय focus उन्ही स्थानो पर होना चाहिए जो ज्यादा महत्वपूर्ण है. कई बात audit team को इस बात पर भी focus करना होता है कि audit कितने समय तक चलने वाला है और इसमें कितने लोगों कि ज़रूरत पड़ सकती है.

    इस कथन का तात्पर्य या कह सकते हैं कि audit team बस इसलिए यह जानना चाहती हैं की audit कितने समय तक चलेगा की क्या वह health और safety जैसे अस्पष्ट मुद्दों को उजागर कर सकती है या करने में सक्षम है और क्या उसके पास इसके लिए पर्याप्त समय है.

    इसके अंतर्गत हम प्रमुख या व्यक्तिगत क्षेत्रों के माप दंड का मूल्याँकन करते हैं जो  उनकी जाँच के स्तर का आंकलन करने में सहायक हो सकता है जिसे इन मापदंड (criteria) में  शामिल किया गया है.

    • Change –  क्या जो  नए rules बनाए गए हैं या काम करने के process में बदलाव किया गया है क्या उससे risk का level बढ़ रहा है. इसमें materials, process, facilities, equipment यहाँ तक की leadership में changing भी include होता है.
    • Performance Indicator –  इससे इस बात का  पता चलता है कि health और safety को लेकर पिछला performance कैसा है और present में क्या है ?
    • Regulation –  अगर किसी कार्य में जोखिम  शामिल है तो उसका मूल्यांकन करें अगर यह law के द्वारा संचालित किया जा रहा है.
    • Time – यह इस बात की पुष्टि करता है कि पिछला audit बीते कितना समय हुआ और उसके आधार पर परिवर्तन अब तक कितना प्रभावित है.

    3. Involving the Right People during Safety Audit –

    कोई भी safety audits तभी सफल हो पाता है जब safety auditor को safety audits के क्षेत्र में महारत हासिल हो  है अर्थात वह व्यक्ति जो इस क्षेत्र में काम करने का experience रखता हो. Safety auditor सबसे पहले यह देखना होता है कि audit कहाँ किया जाना है अर्थात उसका रूप और प्रारूप क्या है? वहाँ काम कर रहे workman की विशेषज्ञता क्या है? और इसके साथ वहाँ उपस्थित विशेष खतरे इस बात को निर्धारित करते हैं कि किसे  Safety audits कि ज़िम्मेदारी सौंपनी है.

    Audit team का चयन करने के लिए निम्न बिन्दुओं पर विचार करें-

    • किस तरह के work का सेफ़्टी ऑडिट किया जाना है (general या targeted )
    • जितने भी employee को safety audit के लिए चुना जाना है उनका इस क्षेत्र में या उस proper work के लिए audit करने का experience कितना रहा है या उस काम के लिए वह कितने उपलब्ध रहे हैं.
    • Audit के दौरान कितना समय लगेगा और उस दौरान किस तरह कि बाधायेँ उत्पन्न होने वाली है.
    • Targeted audit के दौरान किस तरह के potential hazards उत्पन्न होने की संभावना है. इस बात पर पहले से विचार करने की आवश्यकता होती है.
    • अगर बाहर से audit team को hire कर रहे हैं उसके लिए उनका अनुभव क्या है और उसकी लागत क्या होगी.

    4.Corrective action follow – through –

    Safety audits करना और report बनाना आसान होता है, कठिनाई तब आता है सुधार के लिए corrective action को लागू करते हैं. यह और complected तब लगने लगता है जब इसमें सुधार होता है या सुधार करने के लिए organization प्रयासरत होता है.इसमें जो जोखिमो के मूल कारण होते हैं उन्हे समाप्त कर दिया जाता है और आपदाओं को रोकने के लिए नियंत्रण और सुरक्षा उपाय किए जाते हैं.

    Audit के लिए पूरी तरह से प्लान बनाया जाता है और professional ढंग से इसे conduct किया जाता है. लेकिन यह तब तक प्रभावित नहीं होता है जब कमियों को दूर करने के लिए organization सक्रिय नहीं होता है.

    कई मामलों में organization या plant कमियों को दूर करने की सक्रियता तो दिखाते हैं लेकिन वह इसके लिए जायदा समय नहीं दे पाता है, जिसके कारण वह hazards को समाप्त करने में असफल रहता है. जब तक वर्तमान कमी को दूर नहीं किया जा सकता तब तक अगला audit उतना effective नहीं होगा.

    5. Training and Education –

    Work place पर जो भी potential risk दिखता है उसे कम करने के लिए उचित निर्देश ( appropriate guideline) और training की आवश्यकता होती है. जो भी employee machine या कार्यस्थल पर कार्य करते हुये इसके संपर्क में आ सकते हैं, उन्हे इस training में भाग लेने  और उससे संबन्धित शिक्षा लेने की आवश्यकता होती है. जिससे वह खतरे पर विराम लगा सकें.

    जो safety auditor assistance होते हैं उन्हे उन्हे audit procedure के बारे में basic knowledge की समझ होनी चाहिए. इन्हे निम्नलिखित बिन्दुओं के माध्यम से समझते हैं.

    • Safety audits का process और purpose क्या है?
    • Safety audit के फायदे
    • General और targeted safety audit का संचालन
    • Safety Audit Document
    • OSHA के guide line का अनुसरण

    जब training दिया जा रहा हो तो back injury protection, personal protective equipment, lock out/tag out और machine safe guarding आदि के बारे में training में focus किया जाता है.

    इस बात पर भी ध्यान देने की आवश्यकता होती है कि जो training provide कर रहा है उसे उपर्युक्त subject से संबन्धित पूर्ण रूप से जानकारी है या नहीं जो training के importance को समझा सके.

    Construction Safety Audit –

    कोई भी safety audits हो चाहे वह construction safety audit या फिर industry safety audit सबका एक ही उद्देश्य होता है वह यह कि कार्य स्थल पर जो संभावित खतरे हैं उसे दूर करना   या फिर काम के दौरान risk के level को कम करना.

    इसके अलावा construction safety audit/industry safety audit का करने का तात्पर्य company के अंदर काम कर रहे employees के health, safety और welfare को ठीक करना भी होता है.

    Benefit of Construction Safety Audit –

    • Construction Safety Audit के दौरान unique scored assessment tool का प्रयोग करते है जो OHS (Occupational Health and Safety) के प्रभावीकरण को जाँचता है. इससे work place पर सुरक्षा और स्वस्थय के standard को ऊपर उठाने के लिए तथा और work procedure को बेहतर बनाने के लिए बेहतर संसाधन मुहैया कराया जा सके.
    • Construction safety audit का जो दूसरा सबसे बड़ा benefit यह होता है कि वह भविष्य के सुधारों को मापने के लिए एक guide line तय करता है.
    • जब safety auditors, construction site पर अलग-अलग स्थानो का construction safety audit करता है तो यह देख लेता है की कौन से स्थान पर किस तरह का health और safety से संबन्धित सुविधायें उपलब्ध कराई गयी हैं और कौन से स्थान पर ज्यादा प्रभावी है.
    • जिस स्थान पर यह ज्यादा प्रभावी नहीं है उसका कारण क्या है. इसकी report वह organizer को सौंपता है. जिसके सहायता से industry के अंदर health और safety को improvement किया जाता है.
    • जो Experience safety auditors होता हैं वह पूरी तरह से construction safety audit करने के लिए स्वतंत्र होते हैं और अपने skill के अनुसार construction site पर Occupational health and safety को जाँच कर उसे दूर करने में organization का सहयोग करते हैं.
    • Safety auditors होते हैं वह यह भी देखते हैं कि कौन सा ऐसा कार्य किया जा रहा है BOCW act 1998 का उल्लंघन कर रहा है तो उसे रोकता है और पुनः भविष्य में यह न हो इसके लिए fine निर्धारित करता है.
    • Construction safety audit कमियों को दूर करने का सबसे सुयोग्य ढंग है.

    इसे भी जानें-

    Welding types and Definition

    Tool Box Talk II TBT

    Types of Hazards in Hindi | संभावित खतरों के प्रकार